लोहिया का अंग्रेजी विरोध – गंगा सहाय मीणा

11 04 2011
An article by Ganga Sahay Meena on Lohia's Language Policy

अमर उजाला, 23 मार्च 2011

Advertisements

क्रिया

Information

One response

16 09 2011
AnalKumar Kumar

महात्मा गाँधी जी कहते थे – “मेरी मातृभाषा में कितनी ही खामियाँ क्यों न हो, मैं उससे उसी तरह चिपका रहूँगा जिस तरह बच्चा अपनी माँ की छाती से। वही मुझे जीवनदायनी दूध दे सकती है। मैं अंग्रेजी को भी उसी तरह प्यार करता हूँ लेकिन जगह को हड़पना चाहती है जिसकी वह हकदार नहीं, तो मैं उससे सख्त नफरत करूँगा। —
अनल कुमार (Anal Kumar), केन्द्रीय विद्यालय क्रमांक-1, पटियाला

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s




%d bloggers like this: